गुरुवार, 10 अक्तूबर 2019

पत्थल के बनाये हुए मकानों में रहते हैं बनारसी

रांची से घरबन्धु का प्रकाशन 1872 से हो रहा है। 1916 के एक अंक में 'बनारस पर लेख छपा। इसमें लिखा गया, 'बनारस या काशी हिन्दू लोगों का एक प्रसिद्ध तीर्थ स्थान है। यह शहर कलकत्ते से उत्तर पश्चिम कोने में दो सौ साढ़े दस कोस दूरी पर गंगा नदी से उत्तर पर स्थित है। यहां गंगा नदी करीब छह सौ गज चौड़ी है और इसके ऊपर रेल का पुल बनाया गया है। यह शहर नदी के किनारे दो कोस लम्बा और चौड़ाई में आधा कोस है। यहां के रास्ते सब ठेढ़े-कुबड़े हैं और गाड़ी की आमद रफत करना मुस्कील है। यहां के बासिन्दे लोग बहुत करके पत्थल के बनाये हुए मकानों में रहते हैं। कोई कोई मकान छह ताला ऊंचे हैं और कहीं-कहीं ऐसा भी देखा जाता है कि रास्ते के दो किनारे के आमने सामने मकानों पर आया जाया करने के लिए पुल बनाया गया है।Ó इस तरह की अनेक रोचक और सूचनापरक बातें इस पत्रिका में हैं, लेकिन इस पत्रिका का अध्ययन किसी ने नहीं किया।

1901 के अंकों में चीन की लड़ाई का जिक्र मिलता है। इसके साथ ही आस-पास की खबरें भी प्रकाशित होती थीं। जरूरी नहीं कि सभी खबरें चर्च की हों। 1911 में इसका एक विशेषांक आया था। कवर पर चार्ज पंचम एवं महारानी मेरी की पारंपरिक वेश में तस्वीर छपी थी। उन्हें कैसर-ए-हिंद कहा गया था। उनकी भारत यात्रा की खबर छपी थी। इसी तरह आज से सौ साल पहले 1918 के एक अंक में हो लोगों के बारे में सूचना दी। खबर का शीर्षक था-हो लोगों के बीच में एक नया धम्र्म। खबर दी गई थी-सिंहभूम जिला के कोलहन प्रगना में जिसमें चेबासा शहर है, खासकर हो लोग पाये जाते हैं। उनकी बोली वो धम्र्म वो दूसरे रीत दस्तूर मुन्डारी लोगों से बहुत मिलती हैं। ये लोग सींग बोंगा याने सूय्र्य को बड़ा देवता मानते हैं। खबर बड़ी है। उस समय पत्रिका की ङ्क्षहदी को भी देख सकते हैं। तब चाइबासा को चेबासा लिखा गया। कोल्हान को कोल्हन और परगना को प्रगना। इस तरह की अनेक रोचक बातें इसमें प्रकाशित होती थीं।

भारतीय पत्रकारिता के इतिहास में रांची से प्रकाशित 'घरबन्धुÓ शायद पहली पत्रिका है, जो 1872 से अनवरत निकल रही है। 1872 में ही रांची में लिथो प्रेस लगाया गया। दो नवंबर, 1845 को ही यहां जर्मन मिशनरियों के कदम पड़े और कुछ सालों में यहां हिंदी और स्थानीय भाषा सीखकर पत्रिका का प्रकाशन शुरू कर दिया।

इस पत्रिका का कहीं जिक्र नहीं होता है। चूंकि इसका मूल उद्देश्य धर्म प्रचार करना था, लेकिन इसे प्राचीन पन्ने पलटने से पता चलता है कि इसमें तार के समाचार भी प्रकाशित होते थे। एक दिसंबर, 1872 को इसका पहला अंक आया था। पहले यह पाक्षिक था। बाद में इसे मासिक कर दिया गया और अब यह मासिक ही निकल रही है। पहले इसका टैग लाइन था-चुटिया नागपुर की एवं जेलिकल मंडलियों के लिए और अब गोस्सनर चर्च की मासिक हिंदी पारिवारिक पत्रिका हो गया है। हालांकि गोस्सनर चर्च से करीब अस्सी हजार से ऊपर लोग जुड़े हैं, लेकिन चार-पांच हजार ही प्रकाशित होती है। यहां 1882 से अंक उपलब्ध हैं। इन अंकों में धर्म संबंधी प्रचार सामग्री हिंदी में प्रकाशित होती थी। इसके साथ तार के समाचार, स्थानीय समाचर प्रकाशित होते थे।

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

झारखंड के कण-कण में शिव की व्‍याप्ति

झारखंड का कंकर कंकर शंकर है। जहां देखिए, जहां खोदिए, वहीं कोई न कोई शिव लिंग का दर्शन हो जाता है। शिव का एक नाम झारखंडे भी है। अपने पूर्वी ...